मुंबई: वैश्विक दबाव के साथ नकारात्मक आर्थिक आंकड़े, भारतीय मुद्रा के 74 रुपए प्रति डॉलर के स्तर से नीचे लुढ़कने और कच्चे तेल की कीमतों में उफान के कारण शेयर बाजार में लगातार चौथे दिन शुक्रवार को कारोबारी माहौल पूरी तरह नकारात्मक बना रहा। निवेशक इसके साथ ही रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति द्वारा नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं करने के फैसले से भी हतोत्साहित रहे। तेल एवं गैस, ऊर्जा और पीएसयू समूह में हुई भारी बिकवाली के दबाव में बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 792.17 अंक का तेज गोता लगाकर 35,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से लुढ़कता हुआ 34,376.99 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 282.80 अंक टूटकर 10,316.45 अंक पर बंद हुआ।  दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी और मंझोली कंपनियों को भी बिकवाली के कारण काफी नुकसान हुआ।

बीएसई का मिडकैप 2.70 प्रतिशत यानी 388.72 अंक फिसलकर 14,003.81 अंक पर और स्मॉलकैप 2.02 प्रतिशत यानी 285.90 अंक टूटकर 13,840.26 अंक पर बंद हुआ। ईंधन की कीमतों में रही तेजी के कारण लागत बढऩे और मजबूत डॉलर की वजह से आयात महंगा होने से सितंबर में देश के सेवा क्षेत्र की रफ्तार सुस्त पड़ गई। निक्की इंडिया द्वारा जारी सेवा कारोबार गतिविधि सूचकांक के मुताबिक यह अगस्त के 51.5 से गिरकर सितंबर में 50.9 पर आ गया। इस बीच लंदन का ब्रेंट क्रूड वायदा भी बढ़त बनाता हुआ 85 डॉलर प्रति बैरल के पास पहुंच गया।  वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को पेट्रोल-डीजल के उत्पाद शुल्क में डेढ़ रुपये प्रति लीटर की कटौती करने और तेल कंपनियों द्वारा कीमत में एक रुपए प्रति लीटर कमी करने की घोषणा की। इस घोषणा के बाद से तेल एवं एवं गैस समूह और ऊर्जा समूह में तेज गिरावट आई।

इसके बाद आज अपराह्न रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की समीक्षा बैठक के नतीजे भी निवेशकों को हतोत्साहित करने वाले रहे। नीतिगत दरों को यथावत रखने की घोषणा के बाद शेयर बाजार में तेज रफ्तार से बिकवाली शुरू हो गयी और भारतीय मुद्रा पहली बार 74 रुपए के पार 74.23 रुपए प्रति डॉलर के रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गई। शेयर बाजार में आज पूरे दिन अफरातफरी का माहौल रहा। गिरावट के साथ 35,097.99 अंक पर खुलने वाला सेंसेक्स शुरूआती कारोबार में 35,118.54 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर तक पहुंचा। रुपए की तेज गिरावट और कच्चे तेल में रही तेजी से सेंसेक्स कारोबार के दौरान 34,202.22 अंक के दिवस के निचले स्तर तक लुढ़क गया। अंतत: यह गत दिवस की तुलना में 2.25 प्रतिशत टूटकर 34,376.99 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स की 30 में से मात्र चार कंपनियां तेजी में रहीं। सेंसेक्स की 30 कंपनियों में सबसे अधिक नुकसान तेल एवं गैस क्षेत्र की कंपनी ओएनजीसी को उठाना पड़ा। कंपनी के शेयरों के भाव 15.93 प्रतिशत लुढ़क गए। इसके अलावा रिलायंस में 6.31 प्रतिशत और अदानी पोटर्स में 5.36 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। निफ्टी का ग्राफ भी सेंसेक्स की तरह रहा। यह गिरावट के साथ 10,514.10 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 10,540.65 अंक के दिवस के उच्चतम और 10,261.90 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 2.67 प्रतिशत की गिरावट में 10,316.45 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 42 कंपनियां गिरावट में और आठ तेजी में रहीं। विदेशी बाजारों में भी गिरावट हावी रही। यूरोपीय बाजारों में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.61 और जर्मनी का डैक्स 0.57 प्रतिशत की गिरावट में रहे।

एशियाई बाजारों में जापान का निक्की 0.80, हांगकांग का हैंगशैंग 0.19 और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.31 प्रतिशत की गिरावट में रहा। बीएसई के 20 समूहों में से मात्र तीन समूहों में तेजी रही, जिसमें टेक में 0.70, आईटी में 1.11 और सीडी में 0.62 प्रतिशत की बढ़त रही। शेष सभी 17 समूह गिरावट में रहे।  तेल एवं गैस में 12.68, ऊर्जा में 8.52, पीएसयू में 7.06, बेसिक मैटेरियल्स में 3.00, सीडीजीएस में 2.13, एफएमसीजी में 2.33, वित्त में 2.38, स्वास्थ्य में 1.03, इंडस्ट्रियल्स में 2.66, दूरसंचार में 2.12, यूटिलिटीज में 3.58, ऑटो में 3.16,बैंकिंग में 1.93, पूंजीगत वस्तु में 2.26, धातु में 3.45,बिजली में 2.18 और रिएल्टी में 2.70 प्रतिशत की गिरावट रही। बीएसई में कुल 2,781 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 132 कंपनियों के शेयरों की कीमतें अपरिवर्तित रहीं जबकि 1,948 में गिरावट और 701 में तेजी रही।  सेंसेक्स की 30 कंपनियों में चार कंपनियों के शेयर के भाव बढ़ गए। इंफोसिस में 2.19, टीसीएस में 1.88, इंडस इंड बैंक में 1.36 और एचडीएफसी बैंक में 0.10 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गयी।

ओएनजीसी को सबसे अधिक घाटा हुआ। कंपनी के शेयरों की कीमतों में 15.93, रिलायंस में 6.31, अदानी पोटर्स में 5.36, भारतीय स्टेट बैंक में 4.73, भारती एयरटेल में 4.27, मारुति में 4.18, यस बैंक में 4.16, बजाज ऑटो में 3.97, आईटीसी में 3.52, वेदांता में 3.42, मङ्क्षहद्रा एंड महिंद्रा में 3.35, कोल इंडिया में 3.33, एचडीएफसी में 3.24, एक्सिस बैंक में 3.01, टाटा मोटर्स में 3.00, आईसीआईसीआई बैंक में 2.96, एल एंड टी में 2.37, एनटीपीसी में 2.28, टाटा स्टील में 2.12, कोटक बैंक में 1.90, एशियन पेंट्स में 1.63, पावर ग्रिड में 1.01, हिंदुस्तान यूनीलीवर में 0.91, हीरो मोटोकॉर्प में 0.59, विप्रो में 0.37 और सन फार्मा में 0.10 प्रतिशत की गिरावट रही।