मुंबई:  #MeToo कैंपेन के तहत अभिनेता आलोक नाथ पर गंभीर आरोप लगे हैं. लेखक और फिल्म निर्माता विंता नंदा ने आलोक नाथ पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. विंता ने फेसबुक पोस्ट लिखकर आलोक नाथ पर आरोप लगाए हैं. उन्होंने विस्तार से आपबीती बताई हैं. हालांकि पूरे पोस्ट में विंता ने कहीं भी आलोक नाथ का नाम नहीं लिखी हैं.

विंता की फेसबुक पोस्ट के मुताबिक वह आलोक नाथ की पत्नी की सहेली थीं. इसी का फायदा उठाकर आलोक नाथ ने उनका शोषण किया. विंता ने लिखा है, 'उन्होंने मेरे साथ शारीरिक दुर्व्यवहार किया, जब मैं साल 1994 के मशहूर शो 'तारा' के लिए काम कर रही थी.'

विंता ने फेसबुक पोस्ट में एक घटना का जिक्र करते हुए लिखा है शो 'तारा' के एक सीन के दौरान आलोक नाथ की शूटिंग के दौरान सेट पर शराब पीकर आए थे. शूटिंग के दौरान वह शो की लीड एक्ट्रेस नवनीत निशान पर नशे की हालत में गिर पड़े थे. इस पर नवनीत ने उन्हें थप्पड़ जड़ दिया था. विंता ने फेसबुक पोस्ट में आलोक नाथ का नाम लिखने के बजाय संस्कारी शब्द प्रयोग किया है.

विंता ने फेसबुक पोस्ट की शुरुआत में ही आलोकनाथ का नाम लिए बगैर लिखा है उस अभिनेता को ‘तारा’ का लीड एक्टर और ‘उस दशक में टीवी का सबसे बड़ा सितारा’ कहकर वे यह इशारा जरूर दे देती हैं कि वे चर्चित अभिनेता आलोक नाथ की बात कर रही हैं.

इस पोस्ट में उन्होंने लिखा है, ‘वह शराबी, बेशर्म और घिनौना व्यक्ति था लेकिन वो उस दशक में टीवी का सबसे बड़ा सितारा भी था. यही वजह है कि उसके बुरे बर्ताव के लिए न सिर्फ उसे माफ किया जाता था बल्कि कई लोग तो उसे बुरी हरकतें करने के लिए उकसाते भी थे.’

फेसबुक पोस्ट में विंता ने आरोप लगाए हैं कि इस अभिनेता ने उनके साथ एक नहीं बल्कि दो-दो बार बलात्कार किया. वे लिखती हैं कि उन्हें इस व्यक्ति के घर पर एक पार्टी में बुलाया गया था. इस दौरान उन्होंने यहां शराब भी पी. विंता के मुताबिक फिल्मी दुनिया से ताल्लुक रखने और एक आत्मनिर्भर महिला होने की वजह से उनके लिए इस तरह की पार्टियों में जाना या शराब पीना असामान्य बात नहीं थी. हालांकि उस दिन उन्हें शराब पीने के बाद कुछ अजीब सा अहसास हुआ. रात के दो बजे सारे लोग अपने-अपने घर जा चुके थे. अब उन्हें भी घर जाना था, लेकिन उनसे किसी ने भी इस बारे में नहीं पूछा. वे इस अभिनेता के घर पर रुकना नहीं चाहती थीं सो अकेले ही पैदल अपने घर की तरफ चल पड़ीं.

विंता ने आगे अपनी पोस्ट में लिखा है, ‘बीच रास्ते में इस आदमी ने मुझे रोका, वह अपनी कार में था. उसने मुझसे कार मैं बैठने को कहा. मैंने उस पर भरोसा किया और मैं बैठ गई. इसके बाद मुझे धुंधला-धुंधला सा बस यह याद है कि शराब मेरे मुंह में उड़ेली जा रही थी और मेरे साथ बलात्कार किया जा रहा था. अगले दिन दोपहर को जब मैं सोकर उठी तो मुझे दर्द था. मेरे साथ सिर्फ बलात्कार ही नहीं हुआ था, बल्कि मुझे मेरे घर ले जाया गया और वहां मेरे साथ बर्बरता भी की गई.’

विंता ने जब यह बात अपने करीबी दोस्तों को बताई तो उन सभी ने उन्हें यह भूल जाने और आगे बढ़ने की सलाह दी. महिला फिल्म निर्माता के मुताबिक यह ऐसा दौर था जब उनके पास कोई काम नहीं था और इस घटना ने उन्हें भीतर से बुरी तरह तोड़ दिया.

इन आरोपों पर आलोक नाथ ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा, 'आज के जमाने में अगर कोई महिला किसी पुरुष पर आरोप लगाती है तो पुरुष का इस पर कुछ भी कहना मायने नहीं रखता. मैं विंता को अच्छे से जानता हूं. इस समय इस मामले पर मैं चुप ही रहना चाहूंगा. उन्हें अपने विचार रखने का हक है. समय आने पर सही बाते सामने आ जाएंगी. कुछ समय बाद मैं इसपर कमेंट करुंगा.