इस्लामाबाद: पाकिस्तान देश के अंदर बढ़ते भुगतान संतुलन संकट से निपटने के लिए आईएमएफ का रूख करेगा. ‘बेलआउट पैकेज’ के तहत अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की मदद लेने की घोषणा पाकिस्तान ने सोमवार को की है.

पाकिस्तान ने शुरुआती हिचकिचाहट और देरी के बाद यह कदम उठाने की घोषणा की. आईएमएफ से संपर्क करने का निर्णय पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने लिया है.

हालांकि, खान ने प्रधानमंत्री बनने से पहले देश की अर्थव्यवस्था को सहायता पहुंचाने के लिए इस तरह के कदमों का पहले में विरोध किया था. वित्त मंत्री असद उमर ने बताया कि विचार विमर्श के प्रधानमंत्री द्वारा इस फैसले को मंजूरी दिए जाने के बाद आईएमएफ से बातचीत शुरू की जाएगी.