संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की स्थायी प्रतिनिधि निक्की हेली ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. हालांकि वह कब तक अपने पद पर बनी रहेंगी इसका खुलासा नहीं हो सका है. लेकिन स्थानीय मीडिया में खबर है कि राष्ट्रपति ट्रंप ने इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. कहा जा रहा है कि वह साल के अंत तक पद पर बनी रहेंगी.

हेली के इस्तीफे के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का बयान आ गया है. ट्रंप ने कहा कि निक्की हेली ने शानदार काम किया. वह ब्रेक लेने के लिए साल के अंत में अपना पद छोड़ देंगी.

Nikki Haley did an incredible job, she is leaving at the end of the year to take a break: US President Donald Trump https://t.co/IYyC8VlWvW

— ANI (@ANI) October 9, 2018

इससे पहले व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव साराह हकबी सैंडर्स की ओर से कहा गया था कि भारतीय मूल की निक्की हेली मंगलवार को स्थानीय समय के अनुसार सुबह साढ़े 10 बजे राष्ट्रपति ट्रंप से मिलने वाली हैं. मुलाकात को लेकर ट्रंप ने भी ट्वीट किया था. नवंबर, 2016  में संयुक्त राष्ट्र में हेली की नियुक्ति हुई थी.

Big announcement with my friend Ambassador Nikki Haley in the Oval Office at 10:30am.

— Donald J. Trump (@realDonaldTrump) October 9, 2018

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की स्थायी प्रतिनिधि बनने से पहले हेली साउथ कारोलिना की गवर्नर थीं. वह इस पद पर पहुंचने वाली देश की पहली महिला भी थीं. वह 2014 में फिर से साउथ कारोलिना की गवर्नर चुनी गईं.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए यह बड़ा झटका माना जा रहा है. पिछले कुछ समय से राष्ट्रपति ट्रंप के करीबियों का इस्तीफा देने का सिलसिला जारी है.

सितंबर में ट्रंप को देश के लिए “शर्मनाक” बताने वाले एक प्रतिष्ठित एडमिरल (सेवानिवृत्त) एडमिरल विलियम मैकरावेन ने रक्षा मंत्रालय सलाहकार निकाय से इस्तीफा दे दिया था. मैकरावेन ने अगस्त में डिफेंस इनोवेशन बोर्ड से इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने 2014 में पाकिस्तान में विशेष अभियान चलाकर अल-कायदा के सरगना ओसामा बिन लादेन को मारने वाली स्पेशल फोर्सेज का संचालन किया था.

एक समय संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की शीर्ष राजनयिक भारतीय मूल की अमेरिकी निक्की हेली राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पसंदीदा साथियो में मानी जाती थी. साथ ही ट्रंप के साथ उनके प्रेम संबंधों की अफवाह भी उड़ती रही. जनवरी में उन्होंने इस मसले पर अपनी सफाई भी दी थी.

निक्की हेली ने ऐसी अफवाहों को 'बहुत ही अपमानजनक' और 'घृणास्पद' करार दिया था. तब अमेरिका के किसी भी राष्ट्रपति के प्रशासन में कैबिनेट रैंक की पहली भारतीय अमेरिकी हेली ने पोलिटिको के साथ साक्षात्कार में ऐसी अफवाहों को 'बहुत अपमानजनक और घृणास्पद' कहकर खारिज किया था.

हेली ने कहा था, 'एक समय मैं एयरफोर्स वन में थी, लेकिन जब मैं कमरे में थी तब वहां बहुत सारे लोग थे.' उन्होंने न्यूयार्क के लेखक माइकल वुल्फ की पुस्तक 'फायर एंड फ्यूरी' में लगाए गए आरोपों पर कहा, 'वह कहते हैं कि मैं ओवल (राष्ट्रपति कार्यालय) में राष्ट्रपति के साथ अपने राजनीतिक करियर के बारे में ढेरों बातें कर रही थी. जबकि मैंने राष्ट्रपति से कभी अपने भविष्य के बारे में बात नहीं की और मैं उनके साथ कभी अकेली नहीं थी.'