नई दिल्लीः  #MeToo कैम्पेन के जरिए कई महिलाएं अपने ऊपर हुए अत्याचारों और यौन शोषण के बारे में खुलकर सामने आ रही हैं। इस कैम्पेन में अब ज्वाला गुट्‍टा भी शामिल हो गई हैं। गुट्टा ने भी अपना 'मी टू मोमेंट' शेयर किया आैर बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि कैसे उनका करियर एक अधिकारी के कारण बर्बाद हो गया।

किसी अध्यक्ष पर लगाए हैं आरोप
'अर्जुन पुरस्कार' विजेता ज्वाला ने अपने आधिकारिक ट्‍विटर अकाउंट के जरिए कहा कि एक अध्यक्ष ने मुझे मानसिक रूप से इतना अधिक परेशान किया कि मैंने खेलना तक छोड़ दिया था। मेरा शारीरिक उत्पीड़न नहीं हुआ, लेकिन मानसिक उत्पीड़न इतना बढ़ गया कि मैं परेशान हो गई और मैंने खेल से तौबा कर ली थी।

Maybe I should talk about the mental harassment I had to go through... #metoo

— Gutta Jwala (@Guttajwala) October 9, 2018

आज से 12 साल पहले की घटना का उल्लेख करते हुए ज्वाला ने लिखा, "2006 में ये अधिकारी भारतीय बैडमिंटन का चीफ बना था। तब मैं नेशनल चैम्पियन थी, लेकिन इसके बाद भी मुझे उसने टीम में शामिल नहीं किया। जब मैं रियो से वापस लौटी तो उसने मुझे नेशनल टीम से बाहर कर दिया।"

You should! Attempts were made to destroy your career not once but on multiple occasions on the directions of that one man https://t.co/lHoZTYABBN

— Ishan (@1SH4N) October 9, 2018

ज्वाला ने कहा कि जब वह शख्स कामयाब नहीं हो सका तो उसने मेरे साथियों को धमकियां देकर परेशान किया। उसने मुझे हर तरह से अलग-थलग करने की कोशिश की। रियो ओलिंपिक के बाद जिस खिलाड़ी के साथ मुझे मिक्स्ड डबल्स खेलना था, उसे भी धमकी दी गई। मुझे टीम से बाहर कर दिया गया। मैं मानसिक उत्पीड़न से इतनी परेशान हो गई कि मैंने खेलना छोड़ दिया।

So when this person couldn’t get through to me...he threatened my partners harassed them...made sure to isolate me in every manner...even after Rio...the one who I was gonna play mixed with was threatened..and I was just thrown out of the team..

— Gutta Jwala (@Guttajwala) October 9, 2018

गौरतलब है कि वीके शर्मा जब बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष थे तब कई बार ज्वाला गुट्टा विवादों के घेरे में आई थीं। उन्होंने एसोसिएशन पर भेद-भाव करने का आरोप लगाया था।