नई दिल्ली: राफेल विमान सौदे को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर लगातार हमले कर रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आगामी शनिवार को बेंगलुरू में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के कर्मचारियों से मुलाकात कर सकते हैं. सूत्रों का कहना है कि एचएएल के कर्मचारियों ने राहुल को आमंत्रित किया है. बहरहाल, कांग्रेस और गांधी के कार्यालय की तरफ से अभी इस संभावित दौरे को लेकर कोई ब्यौरा नहीं दिया गया.

इस बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता एस जयपाल रेड्डी ने कहा,‘एचएएल सबसे बड़ा शिकार इसलिए बन गया है क्योंकि एचएएल के 10 हजार कर्मचारियों की नौकरी जाने वाली है. राफेल कॉन्ट्रैक्ट मिलने से 10 हजार नयी नौकरी पैदा होने वाली थी, लेकिन अब मौजूदा नौकरियां भी खत्म हो रही हैं.’

उन्होंने कहा, ‘यदि हमारे समय पर किया गया कांट्रैक्ट आगे बढ़ाया जाता और 18 हवाई जहाज खरीदे जाते तथा बाकी हिंदुस्तान में बनाए जाते तो हमारी विनिर्माण क्षमता बढ़ती. यही कारण है कि राहुल जी एचएएल जा रहे हैं.’

दरअसल, कांग्रेस का आरोप है कि प्रधानमंत्री मोदी ने फ्रांस की सरकार से 36 लड़ाकू विमान खरीदने का जो सौदा किया है उसका मूल्य यूपीए सरकार के समय किए गए सौदे की तुलना में अधिक है. जिसकी वजह से सरकारी खजाने को हजारों करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. पार्टी का दावा है कि पीएम मोदी ने इस सौदे को बदलवाया और ठेका हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से लेकर रिलायंस डिफेंस को दे दिया.