नए तेवर-कलेवर में प्रदेश टुडे आपके हाथ

On Date : 10 September, 2013, 1:45 PM

समय और सफर। दोनों में नाता है धारा और किश्ती का। ऐसा ही है आपका प्रदेश टुडे, वो आपकी धारा भी है और सफर भी। बहना, लगातार बहना और अंतिम बूंद तक बहना ये धारा की नियती है, लेकिन जितने........

ऐसे नमूनों से क्या हासिल करेगा देश...

On Date : 23 August, 2013, 3:10 PM

देश में एक दिन में सबसे कम पैसों में गुजारा करने वाले धार्मिक समुदायों में मुसलमान सबसे निचले पायदान पर हैं। वे औसतन 32.66 रुपए प्रतिदिन पर गुजारा करते हैं। ग्रामीण और शहरी क्षत्रों में मुस्लिम परिवारों का आकार हिंदू,........

मोबाईल और अश्लीलता

On Date : 27 July, 2013, 4:19 PM

वाकई संचार क्रांति ने आज हमें बहुत ही तेजी से अत्याधुनिक युग की ओर अग्रसर कर दिया है। दो ढाई दशक पहले जिस बात की कल्पना भी नहीं होती थी आज की पीढ़ी उसका उपभोग भी करने लगी है। अस्सी........

नक्सली भी लूटतंत्र के ही पुर्जे...

On Date : 30 May, 2013, 3:03 PM

चाहे सरकारें हों या नक्सली सब आदिवासियों को ही छल रहे हैं, और उन्हें आदिवासी ही बनाए रखने पर आमादा हैं, चाहे वह संस्कृति बचाने के नाम पर या संहार का हिस्सा बनाने के नाम पर। क्या छत्तीसगढ़ नरसंहार के बीच........

अब गब्बर ले नमक का हिसाब

On Date : 23 May, 2013, 3:35 PM

देवेश कल्याणी यह केवल समाज नहीं बल्कि व्यवस्था का प्रश्न है लोगों को ईमानदार रखे बगैर अराजकता सब कुछ निगल जाएगी। इसलिए कानून और समाज को गब्बर होना पड़ेगा जो कर्त्तव्य से डिगने वालों को जेलों में भेज कर जी भर........

व्यवस्था के रंगमंच पर छैलछबीला भ्रष्टाचार

On Date : 20 May, 2013, 12:12 PM

उमेश त्रिवेदी हम जानते हैं कि लोकतंत्र की राह आसान नहीं है। खुद के द्वारा पैदा भ्रष्टाचार और अनाचार के दलदल में फंसी राजनीतिक और प्रशासनिक व्यवस्था के लिए खाली आसमान में आसरा ढूंढना या रस्सी बांधने के लिए कीलें गाड़ने........

कब तक लोभ की बलि चढ़ता रहेगा इंसान?

On Date : 16 May, 2013, 1:59 PM

भोपाल :- रिश्ते और रिवाज। ये दो शब्द केवल एक ही अक्षर से शुरू ही नहीं होते, बल्कि हमारे सामाजिक जीवन के ताने-बाने से आपसी गहरा संबंध भी रखते हैं। रिवाजों ने जीवन को रवानी दी तो रिश्तों से जीवन........

संसद में होने वाली बहस चौराहों पर क्यों?

On Date : 15 May, 2013, 11:25 AM

उमेश चतुर्वेदी भोपाल :- जिस संसद और अपने संसदीय लोकतंत्र पर हम नाज करते नहीं अघाते, क्या सचमुच वह हमारी जनतांत्रिक आकांक्षाओं को पूरा कर रही है? इस सवाल में तुर्शी तब और बढ़ जाती है, जब संसद का सत्र चल........

महायोद्धा सैनिक सैम बहादुर को सलाम

On Date : 03 April, 2013, 1:46 PM

दीपक राई आज भारत के नंबर वन सैनिक कहे जाने वाले और भारत के पहले  फिल्ड मार्शल सैम बहादुर का जन्मदिन है . सैम बहादुर के नाम से मशहूर मानेकशा का जन्म 3 अप्रैल 1914 को अमृतसर में एक पारसी परिवार........

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार