अयोध्या में रामपथ में भारी भ्रष्टाचार: पहली बारिश में धंस गया रामपथ, जिम्मेदार अफसर निलंबित

Jun 29, 2024 - 14:07
 0  44
अयोध्या में रामपथ में भारी भ्रष्टाचार: पहली बारिश में धंस गया रामपथ, जिम्मेदार अफसर निलंबित

अयोध्या में रामपथ में भारी भ्रष्टाचार सामने आया है। शुक्रवार को मानसून की पहली बारिश में रामपथ कई जगहों से धंस गया। जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा एक्शन लेते हुए इस प्रोजेक्ट से जुड़े एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, AE और JE को निलंबित कर दिया है।

राम मंदिर तक जाने वाले रामपथ में गड्ढे

राम मंदिर का उद्घाटन हुए अभी छह महीने भी नहीं हुए हैं और रामपथ का निर्माण भी कुछ समय पहले ही किया गया था। यह रामपथ बड़ी संख्या में अयोध्या आने वाले रामभक्तों के लिए बनाया गया था। लेकिन शुक्रवार को हुई मानसून की पहली ही बारिश में 13 किमी लंबे रामपथ पर सहादतगंज से लेकर नया घाट तक बनी सड़क कई जगहों पर गड्ढे में तब्दील हो गई।

प्रशासन ने गड्ढों को भरा, लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो

गड्ढों की खबर आते ही आनन-फानन में प्रशासन ने गड्ढों को भर दिया। लेकिन तब तक कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुके थे। जिसके बाद सरकार को काफी किरकिरी का सामना करना पड़ रहा है।

विपक्ष ने लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

विपक्षी दल भी इस मुद्दे पर सरकार को घेरने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे हैं। सपा और कांग्रेस ने रामपथ के निर्माण में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं।

बीजेपी ने किया था विकास का दावा

अयोध्या को बीजेपी ने विकास के मॉडल की तरह बनाने की कोशिश की थी और देशभर में इसका जिक्र करते हुए प्रचार किया था। लेकिन पहली ही बारिश में रामपथ धंसने से सारे दावों पर पानी फेर दिया गया है।

कांग्रेस का आरोप - राम मंदिर से लेकर अयोध्या के विकास कार्यों में भ्रष्टाचार

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि राम मंदिर से लेकर अयोध्या में हुए सभी विकास कार्यों में जमकर भ्रष्टाचार किया गया है।

सीएम योगी ने लिया कड़ा एक्शन

सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में कड़ा एक्शन लिया है और एग्जीक्यूटिव इंजीनियर ध्रुव अग्रवाल, असिस्टेंट इंजीनियर अनुज देशवाल और जूनियर इंजीनियर प्रभात पांडे को निलंबित कर दिया है। उन्होंने पूरे मामले की जांच के भी आदेश दिए हैं और जल्द ही रिपोर्ट मांगी है।

यह घटना भ्रष्टाचार और लापरवाही की बड़ी पराकाष्ठा है। रामपथ का निर्माण अभी कुछ समय पहले ही किया गया था और पहली ही बारिश में धंस जाना यह दर्शाता है कि निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किया गया है और भारी भ्रष्टाचार हुआ है। सीएम योगी ने इस मामले में कड़ा एक्शन लिया है, लेकिन यह जरूरी है कि इस मामले की गहन जांच हो और दोषियों को कड़ी सजा मिले।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow