केरल में अमीबिक मेनिंगोएन्सेफेलाइटिस का कहर: एक और किशोर संक्रमित, तीन की पहले ही हो चुकी है मौत

Jul 6, 2024 - 14:17
 0  27
केरल में अमीबिक मेनिंगोएन्सेफेलाइटिस का कहर: एक और किशोर संक्रमित, तीन की पहले ही हो चुकी है मौत

केरल में अमीबिक मेनिंगोएन्सेफेलाइटिस के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं, जिससे चिंता का माहौल बन गया है। अब उत्तरी केरल के पय्योली जिले का एक 14 वर्षीय किशोर इस बीमारी की चपेट में आ गया है। उसका इलाज एक निजी अस्पताल में चल रहा है, जहां उसकी हालत में सुधार हो रहा है।

अमीबिक मेनिंगोएन्सेफेलाइटिस एक दुर्लभ ब्रेन इन्फेक्शन है, जो गंदे पानी में पाए जाने वाले फ्री-लिविंग अमीबा के कारण होता है। मई के बाद से केरल में इस दुर्लभ ब्रेन इन्फेक्शन के चार मामले सामने आ चुके हैं, और सभी रोगी बच्चे हैं। इनमें से तीन की पहले ही मौत हो चुकी है। यह चौथा मामला पय्योली के निवासी का है, जिसे 1 जुलाई को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

डॉक्टरों का कहना है कि संक्रमण की पहचान जल्दी हो गई थी और आवश्यक उपचार तुरंत शुरू कर दिया गया था। विदेश से मंगाई गई दवाइयों के कारण किशोर की स्थिति में सुधार देखा जा रहा है। डॉक्टरों ने शनिवार को यह जानकारी दी।

कोझिकोड में बुधवार को एक 14 वर्षीय लड़के की मौत हो गई थी, जो अमीबा से संक्रमित था। इससे पहले मलप्पुरम की एक पांच वर्षीय लड़की और कन्नूर की एक 13 वर्षीय लड़की की क्रमशः 21 मई और 25 जून को इस संक्रमण के कारण मृत्यु हो गई थी।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने शुक्रवार को एक बैठक आयोजित की, जिसमें आगे के संक्रमण को रोकने के लिए कई सुझाव दिए गए। गंदे जलाशयों में न नहाने का परामर्श दिया गया है। इसके साथ ही, स्विमिंग पूल में उचित क्लोरीनेशन, बच्चों को जलाशयों में प्रवेश करते समय सावधानी बरतने, और जलाशयों को साफ रखने पर जोर दिया गया है। नाक क्लिप का उपयोग करने का भी सुझाव दिया गया है, क्योंकि अमीबा दूषित पानी से नाक के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं।

सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा जनता को जागरूक करने के प्रयास जारी हैं। लोगों को स्वच्छता का विशेष ध्यान रखने, दूषित जलाशयों से दूर रहने और सावधानी बरतने की अपील की जा रही है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि यदि संक्रमण की समय पर पहचान हो जाए और उचित उपचार मिल जाए, तो इस बीमारी से निपटा जा सकता है। फिर भी, इससे बचाव के उपायों का पालन करना बेहद जरूरी है ताकि इस घातक बीमारी के प्रसार को रोका जा सके।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow