ड्रोन कैमरे में कैद हुआ भोले बाबा का महल, फाइव स्टार होटल से भी ज्यादा आलीशान, देखें तस्वीरें

Jul 6, 2024 - 16:24
Jul 6, 2024 - 17:53
 0  65
ड्रोन कैमरे  में कैद हुआ भोले बाबा का महल, फाइव स्टार होटल से भी ज्यादा आलीशान, देखें तस्वीरें
ड्रोन कैमरे  में कैद हुआ भोले बाबा का महल, फाइव स्टार होटल से भी ज्यादा आलीशान, देखें तस्वीरें

हाथरस सत्संग हादसे के भगोड़े बाबा , भोले बाबा, नारायण साकार विश्व हरि उर्फ सूरज पाल की शानशौकत देख आप दंग रह जाएंगे। बाबा के मैनपुरी के बिछवां स्थित आश्रम की ऊंचीं दीवारों के पीछे जब ड्रोन  कैमरे ने तस्वीरें निकाली  तो यहां एक आलीशान महल नजर आया। बिछवां चौराहा से फ्लाई ओवर से बगल से भोगांव की ओर रांग साइड पर चलिए 500 मीटर दूर पेट्रोल पंप से सीमेंट की एक सड़क नगर आती है। सड़क पर आगे बढ़ते ही दूर से भोले बाबा का यह कथित रहस्यलोक नजर आने लगता है। वर्ष 2020-21 में अनुयायी मैनपुरी शहर निवासी विनोद बाबू आनंद ने अन्य भक्तों के साथ मिलकर इस आश्रम का निर्माण कराया था।इस पर दोनों तरफ साकार विश्व हरि की ही तस्वीरें लगी थी। मजे की बात ये है कि  भवन आश्रम कम और किसी बड़े शहर के फाइव स्टार होटल ज्यादा आलीशान है। जहां वो सारी सुविधाएं है जो एक होटल में होती है। सुरक्षा व्यस्था अलग से है। सेवादार चप्पे चप्पे पर तैनात रहते हैं। 


शीशे के दरवाजे, नौ बीघा में बना महल

नौ बीघे में बना आश्रम चारों तरफ से बराबर भुजाओं वाला है लेकिन दायीं ओर से तिकोना बना है। चारों तरफ 12 फीट ऊंची दीवार है। आश्रम का मुख्य द्वार भव्य और 25 फीट ऊंचा है। गेट पर सुनहरे रंग का पेंट किया गया है। भोले बाबा जब भी आते हैं तो उनका काफिला इसी मुख्य द्वार से प्रवेश करता है। वहीं अनुयायियों और सेवादारों के आवागमन के लिए दाहिनी ओर एक दूसरा गेट लगा है, इसे पीले रंग से पेंट किया गया है।ड्रोन कैमरे से बड़ा लैंड स्केप दिखाई दे रहा है। दोनों तरफ बाबा की बड़ी बड़ी तस्वीरें लगी है. सामने के दरवाजे शीशे के हैं। महल के चारों ओर बड़ी दीवारों का घेरा है जहां बिना इजाजत परिंदा भी पर नहीं मार सकता। महल में  हर तरह की सुविधा है । 

आश्रम के बीच में सुंदर पार्क

आश्रम परिसर में बिल्कुल बीचोंबीच एक आकर्षक पार्क बना हुआ है। इसमें चारों तरफ सजावटी पेड़-पौधे लगे हैं। इस पार्क का फर्श सुंदर रंगोली की डिजाइन में अलग-अलग रंग के पत्थरों से बना है। इसके चारों ओर लाल, हरे और पीले रंग के पत्थरों से वाक वे बना हुआ है। इस पार्क के ऐन सामने बना है भोले बाबा का प्रवास स्थल। बताया गया कि प्रवास स्थल का मुख्य द्वार कांच का बना हुआ है। इसके अंदर चार कमरे बने हैं। एक अतिथि कक्ष भी बना हुआ है। यहां हर किसी को प्रवेश की अनुमति नहीं होती।

भक्त विनोद बाबू ने बनवाया आश्रम, बच्चे के जन्म की मानी थी मन्नत

रामकुटीर आश्रम का निर्माण कराने वाले विनोद बाबू आनंद मैनपुरी शहर के शिव नगर के रहने वाला है। वह लंबे समय से भोले बाबा के अनुयायी है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2021 उनके यहां शादी के 25 वर्ष बाद बेटे का जन्म हुआ था। हालांकि उन्होंने इसके लिए कोई मन्नत आदि नहीं मांगी थी। इसके बाद भी उन्होंने रामकुटीर चैरिटेबल ट्रस्ट हरि नगर बिछवां के नाम से ट्रस्ट का गठन किया। नौ बीघा जमीन खरीदी और वहां पर आश्रम का निर्माण कराया। आश्रम में प्रवास के लिए वह लंबे समय से भोले बाबा के अनुरोध कर रहे थे। इसके स्वीकार करने के बाद बाबा ने 10 मई से आश्रम में प्रवास किया।

अनुनानियों में नहीं कम हो रहा विश्वास

121 लोगों की जान जाने के बाद भी अनुयायियों की श्रद्धा बाबा पर कम नहीं हो रही।  अभी भी साकार बाबा के दरबार में अनुयायियों का आना जारी है। और भक्त दर पर माथा टेक कर जा रहे हैं। कुछ महिलाएं तो बाबा के पक्ष में वहीं धरने पर बैठी हैं। हालांकि पुलिस और एसटीएफ की गाड़ियां शुक्रवार को बाबा के आश्रम विछवां के इस महल के अंदर स्थानीय लोगों द्वारा जाती देखी हैं। लेकिन पुलिस अभी कुछ भी बता नहीं रही। 

आश्रम में ही है भोेले बाबा, शनिवार को  मीडिया के सामने आया

बाबा  घटना के बाद से अपने महल में ही रहा है. और पूरी योजना के साथ आज मीडिया के साथ साकार बाबा ने घटना पर दुख जताते हुए कह  रहे हैं कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। 

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow