पीएम मोदी की रूस यात्रा: पीएम मोदी ने उठाया भारतीय सैनिकों का मुद्दा, पुतिन ने दी सहमति

Jul 9, 2024 - 10:55
 0  17
पीएम मोदी की रूस यात्रा:  पीएम मोदी ने उठाया भारतीय सैनिकों का मुद्दा, पुतिन ने दी सहमति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रूस यात्रा के दौरान रूसी सेना में कार्यरत भारतीयों की स्वदेश वापसी का रास्ता साफ हो गया है। अपने दौरे के दौरान, पीएम मोदी ने यह मुद्दा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के सामने उठाया, जिसे पुतिन ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। पुतिन ने पीएम मोदी को अपने आवास पर चाय पर आमंत्रित किया था, जहां यह महत्वपूर्ण बातचीत हुई।

अनौपचारिक मुलाकात के दौरान चर्चा

पीएम मोदी और राष्ट्रपति पुतिन के बीच चाय पर हुई इस अनौपचारिक मुलाकात में कई मुद्दों पर बातचीत हुई। पुतिन ने पीएम मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री चुने जाने की बधाई दी और कहा कि यह उनकी कई वर्षों की कड़ी मेहनत और समर्पण का परिणाम है। यह मुलाकात रूस-भारत वार्षिक शिखर बैठक से पहले हुई, जो पीएम मोदी की पिछले पांच सालों में पहली रूस यात्रा है। पिछली बार वह 2019 में रूस आए थे।

रूस-भारत संबंधों पर वार्ता

दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत में पुतिन ने कहा, "आपके विचार आपके अपने हैं। आप बहुत ऊर्जावान व्यक्ति हैं, जो भारत और भारतीय लोगों के हितों में परिणाम प्राप्त करने में सक्षम हैं।" उन्होंने यह भी कहा कि पीएम मोदी ने अपना पूरा जीवन अपने लोगों की सेवा में समर्पित कर दिया है, और भारतीय जनता इसे महसूस कर सकती है। इस पर पीएम मोदी ने कहा, "मेरा एक ही लक्ष्य है- मेरा देश और इसकी जनता।"

पुतिन और मोदी की अनौपचारिक बातचीत

इस अनौपचारिक बैठक में पुतिन ने मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनने की बधाई देते हुए कहा कि यह उनके कई सालों के कार्यों का परिणाम है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत अब दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में उभर रहा है। पीएम मोदी ने हाल ही में हुए चुनावों को याद करते हुए कहा, "भारत के लोगों ने उन्हें मातृभूमि की सेवा करने का मौका दिया है।"

वैश्विक संबंधों पर चर्चा

हाल ही में कजाकिस्तान में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (SCO) शिखर सम्मेलन के दौरान पुतिन ने चीन के साथ रूस के रिश्तों के बारे में बात की थी और कहा था कि दोनों देशों के रिश्ते 'अब तक की सर्वश्रेष्ठ स्थिति' में हैं। वहीं, चीन और भारत के रिश्तों में 2020 से तनाव बना हुआ है, जब दोनों देशों के सैनिक लद्दाख की गलवान घाटी में आमने-सामने आ गए थे।

पुतिन और मोदी की बैठक के निहितार्थ

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट के असोसिएट सीनियर रिसर्चर पेट्र तोपिच्कानोव का कहना है कि भारत, रूस से अधिक उम्मीद कर रहा है और यूक्रेन में शांति को बढ़ावा देने में एक बड़ी भूमिका निभाने को तैयार है। बंद दरवाजे के पीछे, पुतिन को चीन के साथ रूस के गहरे होते रिश्तों को लेकर मोदी के सवालों का सामना भी करना पड़ सकता है।

समर्पण और सेवा का संदेश

पुतिन ने कहा, “आपके विचार आपके अपने हैं। आप बहुत ऊर्जावान व्यक्ति हैं, जो भारत और भारतीय लोगों के हितों में परिणाम प्राप्त करने में सक्षम हैं। परिणाम स्पष्ट है। भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में मजबूती से उभर रहा है।” पीएम मोदी ने अपनी हाल की चुनावी सफलता का जिक्र करते हुए कहा, "भारत के लोगों ने उन्हें मातृभूमि की सेवा करने का मौका दिया है।"

पीएम मोदी की रूस यात्रा और पुतिन के साथ उनकी बैठक ने दोनों देशों के रिश्तों में एक नई दिशा दी है और भारतीयों की स्वदेश वापसी के मुद्दे को हल कर दिया है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow