फॉक्सकॉन प्लांट में शादीशुदा महिलाओं को नौकरी देने से इनकार! तमिलनाडु सरकार से रिपोर्ट मांगी

Jun 27, 2024 - 11:33
 0  20
फॉक्सकॉन प्लांट में शादीशुदा महिलाओं को नौकरी देने से इनकार! तमिलनाडु सरकार से रिपोर्ट मांगी

भारत में ऐपल के आईफोन (Apple iPhone) असेंबली प्लांट का संचालन करने वाली फॉक्सकॉन कंपनी (Foxconn) पर शादीशुदा महिलाओं को जॉब न देने का आरोप है। इस मामले में श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने संज्ञान लिया है और तमिलनाडु लेबर डिपार्टमेंट से पूरी रिपोर्ट मांगी है।

श्रम मंत्रालय का हवाला

श्रम मंत्रालय की ओर से समान पारिश्रमिक अधिनियम का हवाला देते हुए ये रिपोर्ट तलब की गई है। मंत्रालय का कहना है कि इस अधिनियम की धारा 5 में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि पुरुष और महिला श्रमिकों की भर्ती करते समय कोई भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए।

तमिलनाडु सरकार से रिपोर्ट मांगी गई

श्रम मंत्रालय ने कहा कि राज्य सरकार इस अधिनियम के प्रावधानों के प्रवर्तन और प्रशासन के लिए उपयुक्त प्राधिकारी है, इसलिए राज्य सरकार से डिटेल्ड रिपोर्ट मांगी गई है।

रॉयटर्स की रिपोर्ट

इस मामले की जानकारी मंगलवार को रॉयटर्स की एक जांच रिपोर्ट सामने आई थी। रिपोर्ट में दावा किया गया था कि फॉक्सकॉन ने चेन्नई के पास अपने आईफोन प्लांट में विवाहित महिलाओं को नौकरियों से बाहर रखा है। कंपनी का मानना है कि विवाहित महिलाओं के पास अविवाहित महिलाओं के मुकाबले अधिक पारिवारिक जिम्मेदारियां होती हैं, इसलिए कंपनी उन्हें काम नहीं देना चाहती।

रिपोर्ट में क्या कहा गया है?

रिपोर्ट में कहा गया है कि आईफोन निर्माता कंपनी ऐपल इंक के लिए असेंबलिंग का काम करने वाली फॉक्सकॉन (Foxconn) में शादीशुदा महिलाओं (Married Women) की जॉब एप्लीकेशन को ही रिजेक्ट कर दिया जाता है। चेन्नई के प्लांट में ये भेदभाव का मामला उजागर हुआ है, जो कंपनी दी गैर-भेदभावपूर्ण भर्ती के लिए सार्वजनिक रूप से बताई गई प्रतिबद्धता के विपरीत है।

पीड़ित महिलाओं ने क्या कहा?

रिपोर्ट में दो बहनों पार्वती और जानकी का जिक्र किया गया है। 20 साल की इन दोनों बहनों को फॉक्सकॉन की चेन्नई स्थित iPhone फैक्ट्री में भेदभाव का सामना करना पड़ा था। बीते साल मार्च 2023 में व्हाट्सएप पर नौकरी के विज्ञापन देखने के बाद ये दोनों बहनें इंटरव्यू के लिए इस प्लांट में पहुंची थीं, लेकिन मैनगेट पर मौजूद सुरक्षा अधिकारी ने उन्हें इंटरव्यू नहीं देने दिया और गेट से ही वापस लौटा दिया। रिपोर्ट में कहा गया है कि उस अधिकारी ने दोनों से सवाल किया था कि 'क्या आप शादीशुदा हैं?' हां, में जबाव देते ही उसने दोनों शादीशुदा महिलाओं को वापस जाने के लिए कह दिया।

जांच में भेदभाव की पुष्टि

पार्वती के मुताबिक, उन्हें ये नौकरी सिर्फ इसलिए नहीं दी गई, क्योंकि वे दोनों शादीशुदा हैं। इस बारे में बात करते हुए उन्होंने आगे कहा कि इस मामले में वहां के कई लोगों को पता है और इंटरव्यू के लिए जिस ऑटो से वे दोनों फैक्ट्री में पहुंची थीं, उस ऑटो के ड्राइवर ने भी उन्हें फॉक्सकॉन के शादीशुदा महिलाओं के प्रति पक्षपातपूर्ण रवैये के बारे में चेतावनी दी थी और हुआ भी कुछ ऐसा ही।

कंपनी ने क्या सफाई दी?

इस मामले में फॉक्सकॉन कंपनी ने रोजगार में भेदभाव के आरोपों से इनकार किया है। कंपनी का कहना है कि वे भारत में विवाहित महिलाओं को रोजगार दे रहे हैं।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow