ब्रिटेन चुनाव में भारतीय मूल के 28 सांसद चुने गए, ऋषि सुनक की कंजर्वेटिव पार्टी को हार

Jul 6, 2024 - 11:14
 0  25
ब्रिटेन चुनाव में भारतीय मूल के 28 सांसद चुने गए, ऋषि सुनक की कंजर्वेटिव पार्टी को हार

ब्रिटेन में हाल ही में हुए चुनाव में भारतीय मूल के 28 लोग सांसद चुने गए हैं। चुनाव के नतीजे 5 जुलाई को आए, जिसमें ऋषि सुनक की कंजर्वेटिव पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा। लेबर पार्टी ने इस चुनाव में बड़ी जीत दर्ज की और 400 से अधिक सीटों पर कब्जा जमाया। लेबर पार्टी के किएर स्टार्मर ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बने हैं। स्टार्मर ने 2020 में जर्मी कोर्बिन की जगह पार्टी के नेता का पद संभाला था।

28 भारतीय मूल के सांसदों में से 12 सिख समुदाय से हैं, जिनमें छह महिलाएं शामिल हैं। सभी सिख सांसद लेबर पार्टी से हैं। इनमें से नौ सांसद पहली बार चुने गए हैं, जबकि दो को तीसरी बार और एक को दूसरी बार हाउस ऑफ कॉमन्स में जाने का मौका मिला है।

सिख सांसदों की उल्लेखनीय जीत

सिख सांसद प्रीत कौर गिल और तनमनजीत सिंह ढेसी ने लेबर पार्टी के टिकट पर क्रमशः तीसरी बार बर्मिंघम एजबेस्टन और स्लो में जीत हासिल की। नाडिया व्हिटोम ने नॉटिंघम ईस्ट से दूसरी बार जीत दर्ज की। 2019 में 23 साल की उम्र में व्हिटोम हाउस ऑफ कॉमन्स में सबसे कम उम्र की सांसद बनी थीं।

किरिथ एंटविस्टल, जिन्हें किरिथ अहलूवालिया के नाम से भी जाना जाता है, बोल्टन नॉर्थ ईस्ट से सांसद चुनी जाने वाली पहली महिला बनीं। सोनिया कुमार डुडले संसदीय सीट से पहली महिला सांसद बनीं। हरप्रीत कौर उप्पल ने हडर्सफील्ड संसदीय सीट जीतकर पहली बार सांसद बनने का गौरव प्राप्त किया। सिख सांसदों की संख्या के मामले में कनाडा पहले स्थान पर है, जबकि ब्रिटेन दूसरे स्थान पर है।

कंजर्वेटिव पार्टी के भारतीय मूल के सांसदों की जीत

ऋषि सुनक ने यॉर्कशायर में अपने रिचमंड एंड नॉर्थहेलर्टन निर्वाचन क्षेत्र में जीत दर्ज की। कंजर्वेटिव पार्टी की नेता और पूर्व गृह मंत्री सुएला ब्रेवरमैन, प्रीति पटेल, और सुनक के गोवा मूल के कैबिनेट सहयोगी क्लेयर कॉटिन्हो ने भी अपनी-अपनी सीटों पर जीत हासिल की। गगन मोहिंदरा ने पश्चिम हर्टफोर्डशायर और शिवानी राजा ने लीसेस्टर ईस्ट से जीत दर्ज की।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow

Priyanka I am a dynamic content writer background in human story, lifestyle and journalism.