मुस्लिम महिलाओं को भी मिला भरण-पोषण का कानूनी अधिकार: सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

Jul 10, 2024 - 11:46
 0  32
मुस्लिम महिलाओं को भी मिला भरण-पोषण का कानूनी अधिकार: सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने आज एक ऐतिहासिक निर्णय में स्पष्ट किया कि मुस्लिम महिलाएं भी पति से भरण-पोषण की मांग कर सकती हैं। कोर्ट ने कहा कि भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 125 के तहत मुस्लिम महिलाएं भी अपने पति से भरण-पोषण की मांग करने की हकदार हैं। यह धारा सभी विवाहित महिलाओं पर लागू होती है, चाहे उनका धर्म कोई भी हो।

मुस्लिम महिलाओं के लिए कानूनी संरक्षण

इस फैसले के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट ने यह सुनिश्चित किया है कि मुस्लिम महिलाएं भी अपने अधिकारों के संरक्षण के लिए इस प्रावधान का लाभ उठा सकें। कोर्ट ने कहा कि सभी विवाहित महिलाओं को यह अधिकार दिया गया है, जिससे वे अपने पति से वित्तीय सहायता प्राप्त कर सकें।

जस्टिस बीवी नागरत्ना का वक्तव्य

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस बीवी नागरत्ना ने कहा कि भारतीय समाज में अब समय आ गया है कि पुरुष गृहिणी की भूमिका और उनके त्याग को पहचाने। उन्होंने कहा कि भारतीय पुरुषों को परिवार की महिलाएं, खासकर गृहिणी, के योगदान की सराहना करनी चाहिए और उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए संयुक्त खाते और एटीएम खोलने चाहिए।

महिलाओं की वित्तीय सुरक्षा

इस निर्णय के साथ, सुप्रीम कोर्ट ने यह सुनिश्चित किया है कि मुस्लिम महिलाओं को भी वही कानूनी सुरक्षा और वित्तीय समर्थन मिले जो अन्य धर्मों की महिलाओं को प्राप्त है। यह फैसला भारतीय समाज में महिलाओं के वित्तीय और सामाजिक सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow