यदि आप भी प्राप्त करना करना चाहते है भगवान शिव का आर्शीवाद, तो सावन महीने में रखें इन बातों का खास ख्याल

सावन माह में अगर आप शिव जी को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखने वाले हैं या भोलेनाथ की आराधना करने वाले हैं, तो आपको कुछ नियमों का पालन भी करना चाहिए। आज हम आपको इन्हीं नियमों की जानकारी देंगे।

Jul 6, 2024 - 17:38
Jul 6, 2024 - 17:40
 0  55
यदि आप भी प्राप्त करना करना चाहते है भगवान शिव का आर्शीवाद, तो सावन महीने में रखें  इन बातों का खास ख्याल

सावन का महीना बहुत फलदायक होता है। इस महीने की खास बात ये भी है कि यह महीना भगवान शिव को भी बहुत प्रिय हेै। इस महीने में भगवान शिव की आराधना करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। वैसे तो भगवान शिव की पूजा ​करने के लिए कोई विशेष नियम नही है। हालांकि सावन महीने में विधि—विधान से पूजा करके आप मनचाहा वरदान प्राप्त कर सकते है। आइए जानते हैं कि किन बातों का ध्यान आपको सावन माह में शिव पूजने के दौरान रखना चाहिए। 

शिव आराधना करते समय रखें इन बातों का ध्यान

भगवान​ शिव की आराधना करते समय आपकों मादक पदार्थो से दूर रहना चाहिए। मांस-मदिरा से अगर आप दूरी नहीं बनाएंगे तो शिव जी की साधना के बाद भी आपको शुभ फलों की प्राप्ति नहीं होगी।

वैसे तो तुलसी की महिमा से हम सभी परिचित है लेकिन भगवान शिव को तुलसी चढ़ाना वर्जित माना गया है। भक्तों को सावन माह के साथ ही कभी भी शिवलिंग पर तुलसी के पत्ते अर्पित नहीं करने चाहिए। माना जाता है कि, भगवान शिव ने पूर्व जन्म में तुलसी (वृंदा) के पति जालंधर नामक राक्षस का वध किया था, इसलिए शिव पूजन में तुलसी के पत्ते को चढ़ाना उचित नहीं माना जाता।  

सावन के सभी सोमवार को अगर आप व्रत रखने वाले हैं तो आपको पूरे सावन माह के दौरान शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए। आप अगर ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए शिव जी के व्रत रखते हैं तो आपकी सभी मनोकामनाओं को भगवान शिव पूरी कर सकते हैं। 

शिवजी की पूजा करते समय बेलपत्र जरूर चढ़ाएं। साथ ही सावन सोमवार के दिन बेलपत्र तोड़ने से भी आपको बचना चाहिए। अगर आप सोमवार को बेलपत्र भगवान शिव को अर्पित करना चाहते हैं तो, एक दिन पहले ही उन्हें तोड़कर रख दें। शिवलिंग पर इन्हें जरूर अर्पित करें। मंदिर जाकर शिवलिंग पर दूध भी चढ़ाएं। दूध तांबे के बर्तन में हो तो बेहतर होता है। साथ ही ॐ नमो धनदाय स्वाहा मंत्र का जाप करें। इस मंत्र का जापरुद्राक्ष की माला से 11 माला तक करें। शिवजी की आरती और चालीसा का पाठ जरूर करें।

भोलेनाथ को चावल चढ़ाते समय यह ध्यान रखें कि उसके दानें टूटे हुए न हों। शिवजी को नारियल बेहद प्रिय है। ऐसे में उन्हें नारियल जरूर चढ़ाएं। जब भी आप शिवजी की पूजा कर रहे हों तो काले कपड़े न पहनें। केसरिया,पीला,लाल और सफेद शिवजी के प्रिय हैं आप इन रंगों के वस्त्र पहन सकते हैं।

यह भी पढें: अनंत अंबानी और राधिका मंर्चेट की सगाई मेें क्यों शामिल नहीे हुई कैटरीना कैफ, विक्की कौशल ने बताई ये वजह

 

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow