सिंहस्थ 2028 से पहले बड़ा फैसला: धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग उज्जैन होगा शिफ्ट, सिंहस्थ की रूपरेखा भी यहां से होगी तैयार

Jul 9, 2024 - 15:21
 0  25
सिंहस्थ 2028 से पहले बड़ा फैसला: धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग उज्जैन होगा शिफ्ट, सिंहस्थ की रूपरेखा भी यहां से होगी तैयार

मध्य प्रदेश सरकार ने 2028 में होने वाले सिंहस्थ महाकुंभ को लेकर बड़ा फैसला लिया है। धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग को राजधानी भोपाल से 'महाकाल की नगरी' उज्जैन शिफ्ट किया जाएगा। इस संबंध में सरकार ने आदेश जारी कर दिया है।

यह फैसला सिंहस्थ महाकुंभ 2028 की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री मोहन यादव का एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है। धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग के साथ ही मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना संचालक का कार्यालय भी अब उज्जैन से संचालित होगा।

वर्तमान में भोपाल से संचालित होता है विभाग

वर्तमान में धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग भोपाल के संचालनालय सतपुड़ा भवन से संचालित होता है। शिफ्टिंग के बाद यह विभाग उज्जैन स्थित सिंहस्थ मेला प्राधिकरण के भवन से काम करेगा।

उज्जैन से संचालित होगी तीर्थ दर्शन योजना

मध्य प्रदेश सरकार का धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग प्रदेश में बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा कराने के साथ-साथ विभिन्न धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करता है। इसी विभाग के अंतर्गत मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना का संचालन भी किया जाता है। मुख्यमंत्री मोहन यादव ने इस योजना के संचालक को भी उज्जैन स्थानांतरित करने का फैसला लिया है।

उज्जैन से होगी धार्मिक आयोजनों की रूपरेखा तैयार

इस फैसले के बाद धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग मुख्यालय के संचालक सहित पूरा स्टाफ उज्जैन में बैठेगा। प्रदेश के सभी धार्मिक आयोजनों की रूपरेखा अब उज्जैन से ही तय होगी। 2028 के सिंहस्थ महाकुंभ की तैयारियों की योजना भी यहीं से बनाई जाएगी।

मुख्यमंत्री मोहन यादव का बड़ा फैसला

2028 के सिंहस्थ महाकुंभ के आयोजन को लेकर मुख्यमंत्री मोहन यादव ने यह बड़ा फैसला लिया है। माना जा रहा है कि इस कदम से सिंहस्थ 2028 की तैयारियों में तेजी आएगी और यह महाकुंभ भव्य और गरिमामय रूप से आयोजित किया जा सकेगा।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow