You Are in Home/

सुरमा की फेक 03 दिसंबर 2020

Updated On 03/12/2020,01:45 PM

नवदुनिया एडिटोरियल में कल शाम अच्छा खासा गदर हो गिया। अय्यार बताते हैं के न्यूज एडिटर और डेस्क प्रभारी के बीच पेज लगाने और टाइम मेंटेन करने को लेके तकरार हो गई। बात इत्ती बढ़ी के हाथापाई की नोबत आ गई। कुछ लोगोंं ने बीच बचाव की कोशिश करी। बाकी दोनों बंदे एक दूसरे को खरी खोटी सुनाते हुए संपादक के चैम्बर में घुस गए। बिचारे संपादक जी इत्ती भेरियाट में आ गये के उन्ने इन्हें बाहर करके चैम्बर का दरवाजा लगा लिया। मालूम हो कि कोरोना काल में नवदुनिया में 24 बंदों की छुट्टी कर दी गई है। लिहाजा भाई लोगों पे काम का चार गुना लोड बढ़ गया है। डेडलाइन को लेके अक्सर नवदुनिया में विवाद हो रहे हैं। संपादक जी इत्ती मीटिंगे करते हैं कि चैम्बर में बेशुमार भीड़ रहती है। बताया जाता है कि इस महीने एडिटोरियल से 3 बंदों की छंटनी हो सकती है। बाकी कल की घटना की पूरी रमूज दिल्ली के जागरण मैनेजमेंट तक पहुंच गई है। पता चला है कि इस घटना के बाद संपादक जी 5 दिसंबर से छुट्टी जा रहे हैं। ये कोरोना का साइड इफेक्ट है, और क्या।

हरिभूमि 03 दिसंबर 2020

Updated On 03/12/2020,01:44 PM

आंखों की रोशनी कम होने के बावजूद केजी तिवारी बने आईएएस अफसर बनके दिखा दिया। बायलाइन के लायक खबर है। दिल्ली में किसानों के आंदोलन वाली खबर भरपूर आई। सूबे में मंत्री पदों को लेके चल रही खींचतान वाली खबर भरपूर रही। कोरोना से बचने के लिए लपक्के काढ़ा डकार लिया। अब मुंह, पेट, आहारनली में छाले पड़ गए हैं। खबर पढ़ी जाएगी। घरेलू गैस और सुल्तानिया को हमीडिया में शिफ्ट करने वाला आयटम भी यहां सेट हो गए।

 

पीपुल्स समाचार 03 दिसंबर 2020

Updated On 03/12/2020,01:44 PM

किसान आर-पार की लड़ाई के मूड में आये हैं। अब उनकी मांग है कि कृषि कानून खत्म करने के लिए संसद का सत्र बुलाओ। 5 को पूरे मुल्क में किसान प्रदर्शन करेंगे। भोपाल गैस त्रासदिबपे मुजफ्फर अली ने शीशों बकम मसीहा उनवान से फिल्म बनाई थी। ये अभी तक सरकार ने रोक रखी है। राजीव सोनी की जानदार खबर। वन अधिकारी एसएस राजपूत अपनी बिटिया की शादी में सिर्फ 25 मेहमान बुला रहे हैं। वो भी कोरोना टेस्ट के बाद। संतोष चौधरी की जानदार खबर। गैस पीड़ित विधवाओं को भीख मांगने की नौबत आन पड़ी है। खबर सिस्टम पे सवाल उठती है।

 

नवदुनिया 03 दिसंबर 2020

Updated On 03/12/2020,01:43 PM

किसान कृषि कानून खतम करने की जिद पे अड़े हुए हैं। अखबार लिखता है कि आज की वार्ता पे उम्मीद टिक गई है। इस बड़ी खबर के बरक्स एमपी में निजी मंडियां खुलने वाली खबर लीड बनी । गोया के मरकजी हो या सूबाई सरकार सब निजीकरण को तरजीह दी रही हैं। ब्रिटेन में फैजरन की वैक्सीन को ओके कर दिया गया है। इस बीच फिकर करने वाली खबर ये है कि 9 दिन में भोपाल में स्वास्थ्य दर 2 फीसदी घट गई है। सीएसई के मुताबिक मुल्क में बिक रहा ज्यादातर शहद मिलावटी है। गैस कांड के बाद तीसरी पीढ़ी भी तकलीफें झेल रही है। हरिचरण यादव की मुकम्मल खबर। स्मार्ट सिटी ने जिन इन्वेस्टर्स को बुलाया उनका सवाल गए कि यहां ऐसा क्या है जो हम करोड़ों का निवेश करें। पुराने शहर के बाजारों में लोग मॉस्क तो लगा रहे हैं बाकी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा।

 

पत्रिका 03 दिसंबर 2020

Updated On 03/12/2020,01:42 PM

ब्रिटेन और रूस में टीके लगने का काम शुरू होने वाला है। अपन इसी से खुश हुए जा रहे हैं। अपने  मुल्क में तो अभी तैयारियां शुरुआती दौर में ही हैं। अपने सूबे में 41 दिन बाद एक दिन में 17 लोग कोरोना से चल बसे। 1439 नए संक्रमितों में से 900 तो भोपाल-इंदौर में पाए गए हैं। किसान आंदोलन में किसानों के तीखे तेवरों वाली खबर जानदार आई। सूबे के नाकारा और भ्रष्ट अफसरों की 20-50 बीके फॉर्मूले के तहत छुट्टी हो सकती है। खबर उम्दा आई। शहडोल अस्पताल में बच्चों की मौत मामले में जांच टीम को कई खामियां मिली हैं। खबर पढ़ी जाएगी। आदेश के बावजूद मेडिकल स्टोर वाले सर्दी-बुखार के रोगियो को बिना डॉक्टर की पर्ची के दवा दे रहे हैं। भेतरीन खबर। भोपाल में हर दिन 300 के पार मरीज निकल रहे हैं। रिकवरी रेट कम हो गया है। खबर पूरे तथ्यों के साथ आई। सुल्तानिया अस्पताल 6 महीने में हमीदिया की नई बिल्डिंग में शिफ्ट हो जाएगा।

 

दैनिक भास्कर 03 दिसंबर 2020

Updated On 03/12/2020,01:42 PM

मेरे खेत की मिट्टी से पलता है तेरे शहर का पेट, मेरा नादान गांव अब भी उलझा है किश्तों में। किसान भयंकर अड़ गए हैं। उन्होंने नई मांग उठाई है। वो तीनों कानूनों को रद्द करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग कर रहे हैं। खबर को कायदे की तवज्जो मिली। ब्रिटेन ने फाइजर की वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। भारत को ये वैक्सीन नहीं मिल रही है, फिर हम क्यों इत्ती दीवानगी के साथ खबर को इत्ता जपाट छाप रहे हैं। सीएसई के मुताबिक बाजार में बिक रहा 80 फीसदी शहद मिलावटी है। समझ में नई आता साब दूध में मिलावट, सब्जियों में जहर, आखिर इंसान खाय तो क्या खाय। गुजरात हाईकोर्ट का फैसला जानदार है। मॉस्क न लगाने वालों से कोविड सेंटरों में ड्यूटी की सिफारिश की है कोर्ट ने। भोपाल में कोरोना वैक्सीन लगवाने में लोग सबसे कम दिलचस्पी ले रहे हैं। खबर लपक आई। लॉकडाउन में नर्मदा बहुत साफ हो गई थी। इन दिनों नदी बेहद प्रदूषित है।

 


About US

Pradesh Today is the first evening daily news paper of the Madhya Pradesh State which provides all its 12 pages colored and with an international size form of newspaper. It also introduced Morning Daily newspaper in the State of Pradesh in the year 2010. After establishing well all over Madhya Pradesh and Chhattisgarh States, the company introduced its newspaper in the State of Uttar Pradesh, Delhi & Maharashtra. Now it also has plans to start publication and printing in other States of India in the years to come. The company has a strong team of experts having wide experience in print media. For ensuring the high standard and quality of the newspaper, a lot of care has been taken while team building. With its strong leadership and dedicated team of employees, the company expects to touch the new heights of success.

Contact US

Plot No 5, Press Complex, Zone-I, M.P. Nagar, Bhopal

Any Query

All Rights Reserved To Madhya Pradesh Today Media Ltd., Bhopal